दुनिया

नवाज पर अब 19 अक्टूबर को तय होंगे आरोप, करप्शन और मनी लॉन्ड्रिंग का मामला

नवाज पर अब 19 अक्टूबर को तय होंगे आरोप, करप्शन और मनी लॉन्ड्रिंग का मामला

lt;bgt;इस्लामाबाद.lt;/bgt; पाकिस्तान की एक एंटी करप्शन कोर्ट ने बर्खास्त पीएम नवाज शरीफ, उनकी बेटी मरियम और दामाद मोहम्मद सफदर के खिलाफ पनामा पेपर मामले में आरोप तय करने की कार्यवाही 19 अक्टूबर तक स्थगित कर दी है। वकीलों के प्रदर्शन के चलते कोर्ट ने ये फैसला लिया है। बता दें, सुप्रीम कोर्ट ने 28 जुलाई को इसी मामले में शरीफ को पीएम पद के लिए अयोग्य ठहराया था। lt;bgt;वकीलों के विरोध में टली सुनवाई...lt;/bgt; - सुप्रीम कोर्ट द्वारा शारीफ को पीएम पद से अयोग्य ठहराए जाने के फैसले के बाद राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (एनएबी) ने शरीफ, उनके परिवार के सदस्यों और फाइनेंस मिनिस्टर इशाक डार के खिलाफ इस्लामाबाद अकाउंटेबिलिटी कोर्ट में करप्शन और मनी लॉन्ड्रिंग के तीन मामले दर्ज किए हैं। - जस्टिस मोहम्मद बशीर की कोर्ट में कार्यवाही शुरू होने ही वाली ही थी कि वकील सुरक्षा इंतजामों पर विरोध करने लगे जिसने कोर्ट परिसर में उनकी आवाजाही पर बंदिशें लगा दी हैं। जस्टिस बशीर कोर्ट रूम से बाहर चले गए और बाद में सुनवाई को 19 अक्टूबर तक स्थगित करने का एलान किया। lt;bgt;नहीं पहुंचे नवाजlt;/bgt; - शरीफ सुनवाई में शामिल नहीं हुए, क्योंकि वह लंदन में अपनी पत्नी कुलसुम की देखभाल में व्यस्त हैं। पीएमएल-एन के एक सीनियर लीडर ने बताया कि - शरीफ ने कोर्ट में अपनी जगह पर पेश होने के लिए रिप्रेजेन्टेटिव नॉमिनेट किया है। - बता दें, नवाज शरीफ की पत्नी कुलसुम गले के कैंसर से जूझ रही हैं और लंदन में उनकी अब तक तीन सर्जरी की जा चुकी हैं।