दुनिया

चीन में मुस्लिम समुदाय के खिलाफ फिर सख्ती, कुरान लौटाने को कहा

चीन में मुस्लिम समुदाय के खिलाफ फिर सख्ती, कुरान लौटाने को कहा

lt;bgt;इंटरनेशनल डेस्क.lt;/bgt; चीन ने मुस्लिम समुदाय के खिलाफ फिर से सख्ती शुरू कर दी है। इसकी शुरुआत शिंगजियांग प्रांत से हुई है। जहां सरकार ने मुस्लिमों पर पाबंदी लगाते हुए कुरान लौटाने को कहा है। इस वक्त शिंगजियांग में कट्टरपंथी उइगर मुस्लिमों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत ही कुरान और इस्लाम से जुड़े दूसरे धार्मिक ग्रंथों को जमा कराया जा रहा है, ताकि धर्म के नाम पर कट्टरपंथी विचारों को कोई बढ़ावा न द सके और आतंक अपनी जड़ें नहीं जमा सकें। lt;bgt;नहीं तो प्रशासन बरतेगा सख्ती...lt;/bgt; - मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऐसा नहीं करने वालों के खिलाफ प्रशासन सख्ती से पेश आएगा। - बता दें, पिछले साल ही शिंगजियांग प्रांत में प्रशासन ने इस्लामिक कट्टरपंथ को बढ़ावा देने के शक में पांच साल पहले छपी कुरान पर रोक लगाई थी। - केवल शिंगजियांग ही नहीं बल्कि चीन के काशगर, होतन और दूसरे हिस्सों से भी इस तरह की खबरें सामने आई हैं। - सरकार ने इस संबंध में चीन के सोशल मीडिया ऐप वी-चेट के जरिए नोटिस जारी किए हैं। जिसके तहत उइगर मुस्लिम को कुरान के अलावा अपने घर में रखे इस्लाम से जुड़े सामान को जमा कराने को कहा गया है। - चीन सरकार की इस सख्ती का विरोध भी हो रहा है, खासतौर पर मानवाधिकार संगठनों ने चीन की आलोचना की है। - संगठन के मुताबिक चीन को उइगर मुस्लिमों के मामले में मानवाधिकारों का सम्मान करना चाहिए। - सरकार ने इस पर अपना रुख साफ करते हुए कहा कि इस वक्त देश में इस्लामिक कट्टपंथ फैल रहा है। इसके चलते ये कार्रवाई की जा रही है।