नजरिया

व्यंग्य-'वेलेन्टाइन वीक की तर्ज पर रामदेव ने लॉन्च किया 'पतंजलि प्रेम सप्ताह'

व्यंग्य-'वेलेन्टाइन वीक की तर्ज पर रामदेव ने लॉन्च किया 'पतंजलि प्रेम सप्ताह'

स्वदेशी आंदोलन से चर्चा में आए बाबा रामदेव, जो अब भारत के सफल व्यापारियों में से एक है। उन्होंने वेलेनटाइन वीक में होने वाली कमाई व भारतीय संस्कृति के प्रचार प्रसार हेतु पतंजलि प्रेम सप्ताह लॉन्च किया है। जिसका आयोजन 7 से 14 फ़रवरी तक किया जा रहा है। इसकी पहली शर्त ये हैं कि ये प्रेम सप्ताह आप उसी स्त्री/पुरुष के साथ मना सकते है जिसके संग आपकी शादी तय हुई हो अथवा सगाई हुई हो वो भी आपके माँ बाप की मर्ज़ी से।

पुष्प दिवस (Rose Day) ~ 7 फ़रवरी को पुष्प दिवस...इसमें आप अपनी पुरुष/महिला साथी को कमल का फूल दे पाएंगे..इसके 2 फायदे है,हिन्दू संस्कृति को बढ़ावा मिलेगा और पार्टी का प्रचार भी होगा। कमल का फूल न उपलब्ध होने पर आप गोभी का फूल दे सकते है जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

प्रस्थापना दिवस (Propose Day) ~ इस दिन प्रेमी जोड़े ब्रह्म मूहर्त में भोलेनाथ के मंदिर जाकर, शिव जी के सामने एक दूसरे से ताउम्र साथ निभाने के लिए प्रस्थापना करेंगे। प्रस्थापना ब्रह्म मूहर्त के बाद अस्वीकृत कर दी जायेगी और दोनों का हाथ जोड़े रहना अनिवार्य होगा। प्रस्तावना के वक़्त पुरुष का भगवा कुर्ता व स्त्री का लाल साड़ी पहनना भी अनिवार्य होगा।

मिश्रीभोग दिवस (Chocolate Day) ~ चॉकलेट की जगह दोनों प्रेमी सभी घरवालों की उपस्थिति में एक दूसरे को माखन-मिश्री खिलाएंगे। बिहार व UP के प्रेमी जोड़े दही-शक्कर का प्रयोग कर पाएंगे।अगर आप चॉकलेट ही ग्रहण करना चाहते है तो माँ-बाप की अनुमति लेकर ही पतंजलि की शुद्ध स्वदेशी चॉकलेट ख़रीदे और बिल अवश्य ले।

गुड्डा-गुड्डी दिवस (Teddy Day) ~ इस दिन दोनों प्रेमी सपरिवार बाजार जाएंगे और विवाह उपरान्त होने वाले बच्चों के लिए खेल-खिलौने के सामान खरीदेंगे। शर्त ये होगी कि आपको सभी सामान स्वदेशी लेना है...मेड इन चाइना लेने की मनाही है। कठपुतली व मिट्टी से बने खिलौने को प्राथमिकता दे।

प्रतिज्ञा दिवस (Promise Day) ~ सवेरे नहा धो कर,चन्दन का तिलक लगाकर घर के आँगन में हवन का आयोजन किया जाएगा जहां दोनों प्रेमी जोड़े को ब्राह्मण की उपस्तिथि में प्रतिज्ञा दिलवाई जायेगी कि वो रोजाना 1 घंटे कपालभाति व अनुलोम विलोम करेंगे और उसके बाद लौकी का जूस लेंगे। ये भी प्रतिज्ञा लेनी होगी कि शादी के बाद वो घर में सिर्फ पतंजलि के प्रोडक्ट ही इस्तेमाल करेंगे।

आलिंगन दिवस (Hug Day) ~ ये दिन मनाने के लिए सवेरे सवेरे नहा धोकर तैयार हो जाए,पूजा करे व माथे पर तिलक लगाए। उसके बाद पुरुष अपने सभी घरवालों के व स्त्री अपने घरवालों के पहले तो चरस स्पर्श करे तत्पश्चात सभी को गले लगाकर उन्हें उनके सहयोग के लिए धन्यवाद प्रकट करे।याद रखे विवाह पूर्व स्त्री व पुरुष का आपस में स्पर्श हमारी संस्कृति के विरुद्ध है,विवाह होने तक धीरज रखे।

चुम्बन दिवस (Kiss day) ~ ये दिन सिर्फ वही मना पाएंगे जिनकी सगाई हुई हो। पुरुष खुद को दूल्हे की तरह तैयार करे व स्त्री खुद को दुल्हन की तरह। तत्पश्चात समस्त घरवाले,रिश्तेदार व ब्राह्मण देव की मौजूदगी में पुरुष अपने होंठो से स्त्री के ललाट अर्थार्थ माथे पर एक चुम्बन करें। इस दौरान पुरुष एवं स्त्री का कोई भी अंग एक दूसरे से स्पर्श नहीं होना चाहिए।पुरुष व स्त्री अपने हाथ भी पीछे रखेंगे। ललाट पर किया गया चुम्बन ही प्रेम की निशानी है।

प्रेम दिवस (Valentine Day) ~ प्रेम दिवस के दिन घर में महामृत्युंजय यज्ञ का आयोजन करे जिसमे घी पतंजलि का इस्तेमाल करे। अगर दोनों पक्ष की स्वीकृति हो तो विवाह भी करवा दें, मूहर्त देखकर। प्रेम दिवस के दिन अपने सभी सहपाठी, गुरुजन,घरवाले व रिश्तेदारों से अपने प्रेम का बखान करे।

इतनी नियम व शर्ते बताने के बाद बाबा रामदेव ने कहा कि अगर भारत का हर नागरिक वेलेंटाइन वीक की बजाये स्वदेशी पतंजलि प्रेम सप्ताह मनाएगा तो भारत को हिन्दुराष्ट्र बनने से कोई न रोक पायेगा। धर्म का प्रचार होगा ही और मेरी कमाई भी। फिर बाबा रामदेव ने आँख मारते हुए इंटरव्यू खत्म किया।

लेखकः नरेश गुप्ता

(इस आलेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं। आलेख के प्रति unv7 किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है। )

 


Tags:

  • Valentine day,
  • Satire,
  • Baba Ramdev,
  • Satire on Baba Ramdev,
  • पतंजलि प्रेम सप्ताह,
  • वेलेन्टाइन वीक,
  • रामदेव ,

कमेंट