नजरिया

क्या पंजाब चुनाव मे मतदान के टूटे रिकॉर्ड जाएंगे बादल सरकार के खिलाफ  ?

क्या पंजाब चुनाव मे मतदान के टूटे रिकॉर्ड जाएंगे बादल सरकार के खिलाफ ?

पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए 4 फरवरी को मतदान हुआ। इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (BJP)-शिरोमणि अकाली दल गठबंधन, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी  के बीच कांटे की टक्कर मानी जा रही है। यह पहला मौका है जब पंजाब में त्रिकोणीय मुकाबला बना  है। इस बार मतदान में वोटिंग सारे रिकॉर्ड टूटे और आंकड़ा 78.62 प्रतिशत रहा। 1966 में अलग राज्य बनने के बाद  सबसे ज्यादा वोटिंग इस  हुई । चुनाव आयोग ने हालांकि 85 फीसदी मतदान का लक्ष्य रखा था, लेकिन वोटिंग वहां तक नहीं पहुंच सकी

 पंजाब का रिकॉर्ड देखें, तो कोई पार्टी लगातार दूसरी बार सत्ता में नहीं आती, लेकिन पिछले विधानसभा चुनाव के नतीजे अलग साबित हुए। पंजाब में पहली बार कोई सरकार 5 साल के कार्यकाल के बाद दोबारा चुनकर आई। उस चुनाव में अकाली दल गठबंधन को 117 सीटों में से 68 सीटों पर जीत हासिल हुई थी।

सबसे ज्यादा मतदान मालवा क्षेत्र मे रहा  है। यहां कुल 69 सीटें हैं। चुनाव आयोग के मुताबिक, मालवा के 11 में से 9 जिलों में मतदाताओं की संख्या रिकॉर्ड 80 फीसदी को पार कर गई। इनमें सत्तारूढ़ बादल परिवार के निर्वाचन क्षेत्र- मुक्तसर, भटिंडा और फजिलका भी शामिल हैं। 2015 में यहां कपास की फसल भी खराब हो गई थी, जिसके बाद कई किसान सरकार से नाराज चल रहे थे। यह सरकार-विरोधी भावना AAP के पक्ष में जा सकती है।

फरीदकोट में मतदान 80 फीसदी  के पार चला गया। यहां भी अकाली दल के खिलाफ मजबूत लहर थी। धर्मग्रंथ के अपमान की घटनाओं और उसके बाद पैदा हुए हालातों के कारण लोग सरकार से नाराज बताए जा रहे थे। इस क्षेत्र में आप पार्टी अच्छा प्रदर्शन कर सकती है

पंजाब के सबसे ज्यादा आबादी वाले जिले- लुधियाना, अमृतसर और जालंधर में 67 से 73 फीसदी  के बीच मतदान हुआ, जो कि औसत से थोड़ा कम है। अमृतसर में 67.7 फीसदी  मतदान हुआ, जो कि पूरे मतदान  के मुकाबले  कम है।

पंजाब के शहरी इलाकों में कांग्रेस बाकी सभी दलों की अपेक्षा बेहतर प्रदर्शन कर सकती है। यहां 70 से 72 फीसदी मतदान हुआ । पंजाब में AAP के प्रमुख संजय सिंह ने कहा, 'कुल मतदान भले ही कम रहा हो, लेकिन मालवा प्रांत में काफी वोटिंग की गई। मालवा में हम मजबूत स्थिति में हैं। मुझे भरोसा है कि नतीजे आने के बाद AAP ही सरकार बनाएगी।' उधर पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखबीर बादल ने कहा, 'हमारे विकास के एजेंडे  का समर्थन करते हुए लोग बड़ी संख्या में मतदान करने के लिए आए।' कांग्रेस की कमान संभाल रहे अमरिंदर सिंह ने कहा, 'मतदाताओं ने हर तरह के डर और दबाव को किनारे रखा और बड़ी संख्या में मतदान किया। यह पंजाब के अच्छे भविष्य की ओर इशारा करता है।'


Tags:

  • election Polls 2017,
  • punjab election voting,
  • Punjab Election News,
  • Punjab election,

कमेंट