जरा हटके

लोग इंसानों को बचाने के लिए नहीं आते आगे, यहां तेंदुए को बचाने के लिए गांववालों ने किया इतना कुछ

लोग इंसानों को बचाने के लिए नहीं आते आगे, यहां तेंदुए को बचाने के लिए गांववालों ने किया इतना कुछ

नर्इ दिल्ली। 

हिमाचल प्रदेश की स्पीती घाटी में एक गांव है। यूं तो गांव का नाम कोर्इ खास नहीं है, लेकिन गांव के लोगों ने जो काम किया है उसके लिए इस गांव आैर यहां के लोगों के लिए एक सलाम तो जरूर बनता है। ये गांव है किब्बर नाम का गांव है। गांव में अक्सर पहाड़ी तेंदुएं आते रहते हैं। 

 

गांव में जब ये तेंदुए आते हैं तो भेड़-बकरियों को लेकर ही जाते हैं। इस तरह से देखा जाए तो ये तेंदुए गांववालों के लिए नुकसान ही लेकर आते हैं। हालांकि इस गांव में लोगों को एक तेंदुआ दिखार्इ दिया जो बूढा आैर काफी बीमार था। ये देखकर गांव के लोगों को दया आ गर्इ। उन्होंने उसे बचाने के लिए अपने मवेशी दिए ताकि वो किसी भी तरह से जिंदा रह सके। 

 

जब लोग खूंखार जानवरों को बिना किसी कारण के मार देते हैं, एेसे में गांव वालों की ये कोशिश सराहनीय है। गांव वालों ने तेंदुए को बचाने का हर संभव प्रयास किया। बावजूद इसके वो बच नहीं सका। वन अधिकारियों ने गांव के लोगों की भावनाआें को देखते हुए तेंदुए के मृत शरीर को गांव भेज दिया। 

 

गांव के लोगों ने बाकायदा तेंदुए के शव का क्रियाकर्म किया। मानो वो उन्ही के बीच से कोर्इ इंसान हो। जानवरों के लिए प्रेम की एेसी मिसाल कम ही देखने को मिलती है, लेकिन तेंदुए जैसे किसी जानवर के लिए एेसी मिसाल मिलना तो लगभग असंभव ही है। 


Tags:

  • Leopard,
  • save a leopard,
  • Villagers try to save a leopard,
  • तेंदुआ,
  • तेंदुए को बचाने की कोशिश,
  • तेंदुए का क्रियाकर्म ,

कमेंट