जरा हटके

प्यार की दिलकश कहानी, जब फैज और अंकिता ने 4 बार की शादी, निकाह कबूला तो 7 फेरे भी लिए

प्यार की दिलकश कहानी, जब फैज और अंकिता ने 4 बार की शादी, निकाह कबूला तो 7 फेरे भी लिए

नई दिल्ली। 

प्यार करते वक्त हमें ध्यान ही नहीं रहता कि जिसे जिंदगी का सबसे खूबसूरत तोहफा समझ रहे हैं वो हिन्दू है या मुसलमान। शायद ही कोई ऐसा होगा कि जिसने ये पूछकर प्यार किया हो कि तुम्हारा धर्म क्या है? हां, जब प्यार से एक कदम आगे बढ़कर बात शादी तक आती है तो धर्म जरूर आड़े आ ही जाता है। फिर भी प्यार करने वालों को भला कोई रोक सका है। ऐसा ही हुआ प्यार से शादी तक पहुंचे एक कपल के साथ, जिसने एक नहीं बल्कि चार बार शादी की। 

फैज और अंकिता को एक दूसरे से बेपनाह मोहब्बत हो गई। लड़का मुसलमान और लड़की हिन्दू तो परिवार वाले कैसे स्वीकार कर लेते। वही पुराना हिन्दू-मुसलमान का बैरियर आ गया, लेकिन दोनों जब एक दूसरे को अपना मान चुके तो फिर रुकने का तो सवाल ही नहीं था। 

अंकिता के पिता को लगता था कि मुसलमान चार-चार शादियां करते हैं। कुछ वक्त बाद वह उनकी बेटी को छोड़कर नई शादी कर लेगा। पिता के इस संशय को मिटाने के लिए दोनों ने एक बार नहीं बल्कि चार बार शादी की। आईएएम इंदौर में अंकिता और फैज को एक दूसरे से प्यार हुआ। अंकिता कहती है कि प्यार कोई रंग या जाति नहीं देखता है। इसके लिए बस यही मायने रखता है कि जो इंसान खड़ा है वो भरोसेमंद है या फिर नहीं। 

अंग्रेजी वेबसाइट माई मैग मोमेंट्स पर छपी खबर के मुताबिक इस शादी से सबसे ज्यादा आपत्ति थी तो वो अंकिता के माता-पिता को थी। अंकिता उन्हें दो साल तक इस शादी के लिए मनाती रही, लेकिन वो इसके लिए मानने को तैयार ही नहीं हुए। उनका मानना था कि दोनों का धर्म अलग है। अंकिता के परिवार को लगता था कि मुस्लिमों को चार शादियों की छूट है और वे मांसाहारी भी होते हैं। ऐसे में अपनी बेटी के भविष्य को लेकर वे काफी चिंतित थे। 

वेबसाइट के मुताबिक अंकिता के माता-पिता को मनाने के लिए एक दिन फैज उनके घर पहुंच गए। फैज ने अंकिता के माता-पिता से बात की और उन्हें विश्वास दिलाया कि वे अंकिता से बहुत प्यार करते हैं और उसका ख्याल रखेंगे। साथ ही उन्हेांने आश्वासन दिया कि वे न अंकिता को कभी गोश्त खाने के लिए नहीं बोलेंगे और न ही उन्हें बुर्का पहनने के लिए कहेंगे।

अंकिता और फैज को करीब दो साल का वक्त लगा अपने परिवारों को मनाने में, लेकिन आखिर में दोनों ने 17 फरवरी 2015 को एक मंदिर में हिन्दू रीति-रिवाज से शादी की। इसके बाद दोनों ने कोर्ट मैरिज की। फिर घर में शादी के बारे में बताया और फ्रेंड्स और घरवालों के बीच शादी के लिए डेट फाइनल की। गोवा में भी दोनों ने दो शादियां की। एक दिन मेंहदी और संगीत जैसे कार्यक्रमों के बाद निकाह हुआ। इसके बाद अगले दिन दोनों ने मंडप में शादी की। फैज का परिवार शादी में पहुंचा लेकिन अंकिता के परिवार से उनकी मम्मी और भाई ही आए। 

अंकिता और फैज की ये शादी करीब दो साल पहले हुई थी। न अंकिता ने अपना धर्म परिवर्तन कराया और न ही फैज ने। दोनों एक दूसरे के धर्मों को पूरा सम्मान देते हैं और उनका परिवार दोनों को। 


Tags:

  • Ankita and Faiz,
  • अंकिता और फैज,
  • Love story of Ankita and Faiz,
  • प्यार की कहानी,
  • hindu girl married the same muslim man four times,
  • चार बार की शादी,
  • Muslim Man,
  • कबूल किए 7 फेरे,
  • ,
  • Married The Same Woman Four Times,
  • Love Conquers All,

कमेंट