मनोरंजन

अमिताभ को स्मिता पाटिल ने जब किया था अलर्ट

अमिताभ को स्मिता पाटिल ने जब किया था अलर्ट

lt;bgt;मुंबई। lt;/bgt;भारतीय सिनेमा के आकाश में स्मिता पाटिल को ध्रुवतारे की मानिंद देखा जाता है। दरअसल, अपने सशक्त अभिनय की बदौलत उन्होंने समानांतर के साथ-साथ व्यावसायिक सिनेमा में भी उल्लेखनीय पहचान बनाई थी। यह स्मिता का बड़प्पन ही था कि हिंदी फिल्मों में व्यस्तता के बावजूद मातृभाषा मराठी के अलावा उन्होंने पंजाबी, तेलुगू, गुजराती, कन्नड़, मलयालम सहित बंगाली जैसी क्षेत्रीय भाषाओं की भी फिल्मों में काम किया। स्मिता की सांवली सूरत और बड़ी-बड़ी आंखें पर्दे पर बहुत कुछ बयां करती थीं, मगर क्या आपको मालूम है कि सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के रूप में फिल्मफेयर और राष्ट्रीय पुरस्कार हासिल करने के अलावा पद्मश्री से सम्मानित स्मिता को ज्योतिष विद्या का बहुत अच्छा ज्ञान था? फिल्म कुली के सेट पर अमिताभ को लगी चोट के बारे में तो आप जानते ही हैं, पर क्या आपको मालूम है कि उस दुर्घटना से ठीक पहले स्मिता ने उन्हें अलर्ट किया था। जी हां, ज्योतिष विद्या में विशेष रुचि होने के कारण स्मिता अभिनय से परे इसका अध्ययन करने में भी व्यस्त रहती थीं। इसके लिए अक्सर वे अपने साथी कलाकारों के हाथ की रेखाएं देखतीं। अमिताभ बच्चन के अपोजिट जब वे नमक हलाल के साथ ही शक्ति की भी शूटिंग कर रही थीं। सुना है कि एक दिन अमिताभ का हाथ देखते हुए स्मिता ने अचानक उन्हें सतर्क किया था- आपके साथ एक गंभीर दुर्घटना हो सकती है! जाहिर है कि इस बात पर अमिताभ ने तब गौर नहीं किया था, मगर दो ही दिन बाद स्मिता द्वारा फोन पर अमिताभ से पूछा गया सवाल हर किसी को हैरान करने के लिए काफी था। असल में अमिताभ जब फिल्म कुली की शूटिंग करने की खातिर बंगलोर पहुंचे हुए थे, रात को होटल के उनके कमरे में फोन की घंटी बज उठी। दूसरी ओर एक महिला का घबराया हुआ स्वर था- हैलो, अमित जी? मैं बंबई से स्मिता पाटिल बोल रही हूं... आप कैसे हैं? मैंने अभी-अभी एक बुरा सपना देखा कि आपको चोट लग गई है! आप ठीक हैं न? आपको बता दें कि अमिताभ की कुशल-क्षेम जानने के लिए स्मिता बेहद परेशान थीं, इसीलिए आधी रात प्रतीक्षा में संपर्क करके बंगलोर स्थित अमिताभ के ठिकाने का फोन नंबर लिया था। खैर, अमिताभ ने आश्वस्त किया तो ईश्वर का धन्यवाद करते हुए उन्होंने सलाह दी थी- ऊपरवाले की दया है कि आप ठीक हैं... प्लीज, अपना ख़याल रखिएगा! अपने प्रति स्मिता की चिंता के मद्देनज़र अमिताभ ने उनका आभार माना और सो गए। फिर सुबह हुई तो हमेशा की तरह कुली के भी सेट पर समय से पूर्व जा पहुंचे। अब संयोग देखिए कि उसी दिन (26 जुलाई, 1982) को शूटिंग के दौरान वे बुरी तरह चोटिल हो गए! स्वाभाविक है कि आपके मन में अब एक जिज्ञासा सहज उत्पन्न होगी कि स्मिता अगर किसी दूसरे की हस्तरेखा देखकर सही-सही भविष्यवाणी कर सकती थीं, फिर क्या उन्हें अपने भविष्य के बारे में कुछ भी पता नहीं था? पिछले करीब 45 वर्षों से अमिताभ का मेकअप कर रहे दीपक सावंत का कहना है- स्मिता जी को न केवल ज्योतिष शास्त्र का अद्भुत ज्ञान था, अपितु अपने भविष्य से जुड़ी बातों का भी उन्हें भरपूर अहसास था। वे आगे बताते हैं- अपने पति राज बब्बर से स्मिता जी अक्सर कहती रहती थीं कि मैं अब ज्यादा दिनों तक आपका साथ नहीं निभा पाऊंगी। इस पर जब कोई उन्हें चुप करवाता, वे अपनी आखिरी ख्वाहिश बयां करने लगतीं- मैं जब मर जाऊं, तब मेरी अर्थी को किसी नई-नवेली दुल्हन की तरह सजा कर उठाया जाए! गौरतलब है कि दीपक ही वह शख्स हैं, जिन्हें स्मिता की अंतिम यात्रा निकालने से पहले उनका मेकअप करने का जिम्मा सौंपा गया था। दीपक की मानें तो स्मिता ने अपने बारे में भी सटीक भविष्यवाणी की थी, साथ ही यह कहते हुए वे भावुक हो जाते हैं- अपने पुत्र प्रतीक के जन्म (28 नवंबर) के ठीक 15 दिन बाद (13 दिसंबर, 1986 को) महज 31 वर्ष की अल्पायु में उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। मैंने ही उनका सुहागन की तरह मेकअप किया था। वे बहुत खूबसूरत लग रही थीं!